महामारी का महिलाओं के स्वास्थ्य पर सबसे अधिक प्रभाव

thumbnail

नई दिल्ली
कोरोना महामारी और उसके बाद के देशव्यापी लॉकडाउन ने लोगों के सामाजिक और आर्थिक जीवन के सभी पहलुओं को प्रभावित किया है। महामारी के प्रभाव से महिलाओं के यौन और प्रजनन स्वास्थ्य पर कुछ खतरे मंडरा रहे हैं। पिछले महामारियों के साथ-साथ COVID-19 के प्रभाव के साक्ष्य बताते हैं कि परिवार नियोजन सहित आवश्यक स्वास्थ्य सेवाओं के विघटन ने महिलाओं और लड़कियों को खतरे में डाल दिया है।
विश्व जनसंख्या दिवस की इस बार की थीम कोरोना वायरस के चलते दुनियाभर में महिलाओं और लड़कियों के स्वास्थ्य और अधिकारों की सुरक्षा पर केंद्रित है।

भारत में सबसे अधिक 20 मिलियन जन्मों का पूर्वानुमान
लंबे समय में यौन और प्रजनन स्वास्थ्य सेवाओं सहित आवश्यक स्वास्थ्य सेवाओं की सीमित उपलब्धता हानिकारक होगी। यूनिसेफ के अनुमानों के अनुसार, नौ महीने के अंतराल में भारत में सबसे अधिक 20 मिलियन जन्मों की पूर्वानुमान संख्या (forecast births) होगी। Guttmacher संस्थान ने अनुमान लगाया है कि कम-और-मध्यम-आय वाले देशों में प्रतिवर्ती (reversible) गर्भनिरोधक विधियों के उपयोग में 10% की कमी के कारण अतिरिक्त 49 मिलियन महिलाओं को आधुनिक गर्भ निरोधकों की आवश्यकता और एक वर्ष के दौरान अतिरिक्त 15 मिलियन अनचाहे गर्भधारण होंगे।

COVID -19 के विपरीत प्रभाव का आकलन करने और महिलाओं और लड़कियों को COVID-19 की प्रतिक्रिया योजना और स्वास्थ्य लाभ प्रयासों में मुख्य बने रहने की सिफारिश करने के लिए, पापुलेशन फाउंडेशन ऑफ इंडिया (पीएफआई) ने एक महत्वपूर्ण नीति पत्र ‘महिलाओं पर COVID 19 का प्रभाव’ जारी किया।

यह महत्वपूर्ण दस्तावेज देश भर में और विशेष रूप से महिलाओं और लड़कियों पर COVID-19 संकट के विभिन्न प्रभावों को गहराई और व्यापक रूप से देखता है। लेखकों ने वैश्विक साक्ष्य के साथ-साथ पीएफआई द्वारा किए गए अध्ययनों पर भरोसा किया, जिसमें युवा लोगों, लड़कियों और महिलाओं पर COVID -19 के प्रभाव और स्वास्थ्य सेवाओं तक उनकी पहुंच का आकलन किया गया था।

कुछ प्रमुख सिफारिशों में शामिल हैं-

-साक्ष्यों को हमें जेंडर की दृष्टि से देखना होगा – COVI19 के आसपास कार्यक्रमों और नीतियों को संबोधित करने के लिए जेंडर के अलग-अलग डेटा और सबूतों का उपयोग करना

– 3.3 मिलियन महिला फ्रंटलाइन स्वास्थ्य कार्यकर्ताओं में निवेश करें जो भारतीय सार्वजनिक स्वास्थ्य प्रणाली का चेहरा हैं और देश के कई हिस्सों में केवल मात्र स्वास्थ्य सेवा सहायक है।

– सबसे अधिक प्रभावी सार्वजनिक स्वास्थ्य उपायों के रूप में परिवार नियोजन में निवेश को बढ़ाना।

– COVID -19 पर सूचना और जागरूकता फैलाने, एवं मिथकों और गलत धारणाओं को दूर करने के लिए सामाजिक और व्यवहार परिवर्तन संचार (SBCC) माध्यमों का उपयोग करें।

-सार्वजनिक स्वास्थ्य प्रणाली को मजबूत बनाने, आपूर्ति श्रृंखलाओं को बनाए रखने, सेवा वितरण और स्वास्थ्य सुविधाओं को बनाए रखने के लिए स्वास्थ्य बजट बढ़ाने हेतु अतिरिक्त प्रयासों की आवश्यकता होती है।

पीएफआई ने रखी कुछ मांगे
पूनम मुटरेजा, कार्यकारी निदेशक, पीएफआई के अनुसार, “COVID-19 संकट ने हमारी सामाजिक सेवाओं और स्वास्थ्य देखभाल प्रणाली पर अभूतपूर्व मांगें रखी हैं। महिलाओं में यौन और घरेलू हिंसा, उनकी स्वास्थ्य सेवाओं के लिए व्यवधान, गर्भ निरोधकों और मासिक धर्म स्वच्छता उत्पादों की आपूर्ति, मानसिक तनाव और चिंता का खतरा बढ़ रहा है। यह महत्वपूर्ण है कि हम योजना और कार्यक्रम निर्माण को बेहतर बनाने के लिए एक जेंडर दृष्टि के माध्यम से अपनी आपातकालीन प्रतिक्रिया नीतियों का आश्वासन देते हैं। यह महिलाओं के प्रजनन और यौन स्वास्थ्य और अधिकारों के लिए पीएफआई की मजबूत प्रतिबद्धता का भी प्रमाण है जो कि COVID-19 के लिए कार्यक्रम प्रतिबद्धता है।

source

Back To Top

You have successfully subscribed to the newsletter

There was an error while trying to send your request. Please try again.

दैनिक समाचार will use the information you provide on this form to be in touch with you and to provide updates and marketing.